Thursday, August 30, 2012

कबाड़

राशन की पर्चियों में
बेमतलब रसीदों में
दवा की आधी भरी
आधी  खाली  रंग-बिरंगी
शीशियों में
ज़िन्दगी उंडेल रखी है

पुरानी किताबों की
अजीब महक में
लम्हे क़ैद कर रखे हैं
पुरानी डाईरी के
पीले पन्नों में
सावन संजो के रखे हैं

चिट्ठियों के घुलते लफ़्ज़ों में
इश्क दफ़न कर रखा है
कैसे में यह तय  कर लूं
क्या कबाड़ है
और क्या अच्छा  है !

Monday, August 27, 2012

ABYSS

Falling into an endless abyss
I claw at the darkness
for some semblance
of gravity

no compos mentis logic
explains it
at the brink of hope
I think of you
holding my hand

and I let go !

Wednesday, August 22, 2012

Ruskin Bond

The moment he smiles at you
there is no escaping the aura
his memory as ruddy
as his complexion

the wrinkles on his hands
each a testament
of his lifelong affair
with the hills and the slopes
every furrow in his cheeks
a timekeeper for the Himalayas

His eyes shine
and the calmness of his soul
reflected in the soft voice
in which he greets all visitors

he smiles into
his cup of coffee
and I sense he senses
a tale brewing

he the oracle
of childhood longings
heartbreaks and more

the old man of Landour !!


Monday, August 20, 2012

FROZEN

The frozen sea of memories
waiting for a summer of words
or a shower of salt tears

something,anything
that may melt its core
the labyrinthine layers of
meanings,understood
yet misconstrued
versions of personal truths

life doesn't offer
the convenience of a thesaurus
of neatly sorted
synonyms and antonyms
even references
smudged in our paraphrases of reality


I give up and
let this embryo of a poem
qualify itself to be verse !




Friday, August 17, 2012

संवाद

कोरा कागज़ भी एक कहानी है
उन बातों  की  जो
शब्दों की खोखले  जिस्मों
में समा  न सकें


वो जो सत्य तो है पर
फिर भी परिभाषा
की पहुँच से परे

वो जो मान्यताओं में
हो निषेद
असीमित अभिप्राय


सफ़ेद पर काले -नीले
निशानों के बीच
के  श्वेत निशब्द  संवाद  !





Tuesday, August 14, 2012

aazadi

आज़ादी अपनी बात कहने की
पर यूँ नहीं की दब जाये
विरोध करने  वाली
हर आवाज़  हमारे शोर में

आज़ादी बेटियों को
जन्म लेने की
आज़ादी  औरतों की
दलितों की ,गरीबों की
मजदूरों की ,उन सब की
जो टी.वी  पर भाषण
नहीं दे सकते

जो कानून नहीं
खरीद सकते
जो ट्विट्टर पर
घोषित नहीं कर सकते
अपनी हर उपलब्धि

मिले ऐसी आज़ादी न जब  तक
कैसा स्वतंत्रता दिवस ?






Thursday, August 9, 2012

KRISHNA

सांवरे  के  देस में
सांवलापन है सजा

प्रेम का वो देवता
पर प्रेम करना भी मना

धर्म ,जाती ,वर्ग
में ह्रदय अपना बाँट कर
कोई सुदामा कृष्ण से
कैसे करेगा मित्रता  !

Wednesday, August 8, 2012

Notes from the sabbatical

रुकी हुई है ज़िंदगी
जैसे काग़ज़ की नाव से
कोई अचानक उसके
भंवर छीन ले

सूखी रेत में
धंसते-धंसते
दूर तक किसी बादल
की उमीद भी ना मिले !

--------------------------------
प्यार इंद्रधनुष जैसा
क्षण भन्गुर,अल्पायु
और याद फफूंद जैसी
आत्मा को सालती,गलाती


बारिश बड़ी बेरहम !
-------------------------------
घिस घिस के लम्हों को
बार बार
आँसुओं से धोया
कुरेदा,खरोंचा
दिल के लहू में भिगोया

यह इश्क़ की सियाही
की छाप छूटती ही नहीं !

Friday, August 3, 2012

WORDS/THOUGHTS

There is always so much to say
about so much- love,life,lessons
there is always a word drought
to get it right,perfect

some words ill-fitted
like a borrowed shirt
others vague,confused
like a blindly followed trend

the shoulders of some words
droop on my thought
and others bursting at seams
a size too small
for a grand one

my thoughts are shopping today
for the perfect costume
of well-knit words !

Orange Flower Awards

@IAmSufiZen

COMPANIONS CALLED BOOKS

To Kill a Mockingbird
The Catcher in the Rye
Animal Farm
The Alchemist
One Hundred Years of Solitude
Romeo and Juliet
Frankenstein
The Odyssey
The Adventures of Huckleberry Finn
The Count of Monte Cristo
Eat, Pray, Love
Lolita
The Da Vinci Code
The Kite Runner
The Silence of the Lambs
The Diary of a Young Girl
Pride and Prejudice
Jane Eyre
The Notebook
Gone With the Wind
}

I WILL RING THE BELL.WILL YOU?

The Human Bean Cafe, Ontario

The Human Bean Cafe, Ontario
my work on display there !!!!!