Sunday, April 28, 2013

मृगतृष्णा


मन सदा कस्तूरी जैसा 
भटकता 
अप्राप्य को खोजता 
शब्द-अर्थ जोड़ता 
यही 
मृगतृष्णा 
जिजीविषा !

Thursday, April 25, 2013

TOGETHER APART

The fan whirrs
annoyingly repetitive
like life-cycles,
birth-death-rebirth

occasional noise of
a page turned
or a stance shifted

body clocks
tic-toc,tic-toc
same time,different zones

in life's 
two adjacent rooms
all bridges burnt
windows nailed

two hearts
and a wall
a thousand tears thick
between the 
a( together) part !

Tuesday, April 23, 2013

दिल्ली



यह जो चुप्पी साध लेते हो
सच के घिनोने चेहरे देखकर
यह जो मुंह मोड़ने की आदत है तुम्हारी                                                        
सब  असुखद समाचारों से
डरावनी हैं यह सभी प्रवृतियाँ

क्या करोगे जब ऐसी  ही कोई
भयावह हकीकत
आ खड़ी होगी
एक सुबह तुम्हारी चौखट पर


कबूतरों जैसे
आँखें मूंद लेने से
जब तक न भागेगी बिल्ली

तब तक और एक ,एक और,
और एक दिल्ली





Monday, April 22, 2013

चाकलेट


क्यों गयी थी
वो पागल  लड़की
गली में खेलने
गलियाँ सड़कें तो
लड़कों के लिए
होती हैं

चुप-चाप सुबह
कहीं कंजक बनती
पूरी-हलवा पांच रूपये लेती
और देवी बनकर
मर्यादा के कारावास
में खुद को बंद कर लेती

चाकलेट का
लालच ही उसको लील गया
घुटनों के ऊपर फ्राक पहनाया
नासमझ माँ ने
देखो बेटी का शील गया

अब लड़के तो लड़के होते हैं
कब उम्र देखकर छेड़ते हैं
"शुक्र करो लड़की जिंदा
मिल गयी तुम्हारी"
दरोगा ठीक ही बोला
घर में कन्या-पूजन
करने वाले हाथ ही
आँचल नोचते हैं

बेवकूफ माँ-बाप थे उसके
कोख में ही जो मार गिराते
खुद भी दुःख से बचते
दो लड़कों का भविष्य भी बचाते

दो-चार दिन खूब शोर मचेगा
टीवी वाले आएंगे ,
अखबार बिकेगा
फिर आंकड़ा बना कर
कहीं दबा दी जाएगी
जब तक फ्राक पहनकर,
पांच साल की
कोई और पागल लड़की
चाकलेट को ललचाएगी !


Wednesday, April 10, 2013

पुराने कागज


पुराने कागजों में 
कैद रखे 
लम्हों की धूल में 
फीकी पड़ी है 
ख़ूबसूरत याद कोई 

और मुंह छुपाता 
अफ़सोस का भी 
कोई अकेला पल कहीं पर 

कहीं से झांकते 
वो हाथ जो छूटे 
कहीं पे मगरूर 
एक मज़बूत रिश्ता 

और फिर 
एक ही छींक से टूटता 
सारा तिल्सिम 
अभी के फर्श 
पर बिखरते 
कल के सपने !

Sunday, April 7, 2013

A ROOM OF ONE'S OWN

"We do not claim any space
we do not own any
the power is theirs
ours is the
decorating of the space
with care and romance"

a thousand years of
my mother's mother's obligation
has me tied
the greed for my space
buried in deep confusion

promising more each day
to everything
more than I can humanly fulfill
I weave the background
with bleeding fingers
and an injured soul
for them to run the show
and bask in the applause

Dear Virginia
you were so right
about that "room of one's own"

not the kitchen where
the memory of a burnt cake lingers
not the bedroom
where no matter how great
me would always be
a part of the huge"us"
not the living room
with the smells and echoes
of so many thoughts

This then is that room
this white space of mine
waiting for my words
the blinking cursor
beating like my
eager heart
to pour my soul out !

Thursday, April 4, 2013

Google



काश
मन के प्रशनों
को गूगल
की सुविधा मिले

हरेक पृच्छा
के हों
हज़ारों -लाखों
विकल्प

एक बटन
दबाने से
हर दुविधा मिटे

काश !!

Wednesday, April 3, 2013

SHOW

The sun has poured
all its orange experience
into the open palms
of the evening


the late arrivals
on the trees
are bickering
about the long
parched afternoon


the night has
stretched out 
its mirror work spread
on each bylane
of the sky

windows shimmer
stoves perspire
life waits
in the wings
to bring down the curtains
on one more show !

Tuesday, April 2, 2013

HAIKUS



I
Spring is back,they say
where are the blossoms I ask
a parched soul barren !

II

A nostalgic song
the words,the tune familiar
memories dilute.

III

deep inside the earth
a new life is in waiting
thriving on dead love.


Orange Flower Awards

@IAmSufiZen

COMPANIONS CALLED BOOKS

To Kill a Mockingbird
The Catcher in the Rye
Animal Farm
The Alchemist
One Hundred Years of Solitude
Romeo and Juliet
Frankenstein
The Odyssey
The Adventures of Huckleberry Finn
The Count of Monte Cristo
Eat, Pray, Love
Lolita
The Da Vinci Code
The Kite Runner
The Silence of the Lambs
The Diary of a Young Girl
Pride and Prejudice
Jane Eyre
The Notebook
Gone With the Wind
}

I WILL RING THE BELL.WILL YOU?

The Human Bean Cafe, Ontario

The Human Bean Cafe, Ontario
my work on display there !!!!!